बैन होने के बाद “टिक टॉक” का बयान,भारतीय यूसर्स का डेटा चीनी सरकार से शेयर नहीं किया’

0
230

नई दिल्ली: टिक टॉक इंडिया के हैड निखिल गांधी ने ट्विटर पर एक पोस्ट के जरिए कंपनी की तरफ से बयान जारी किया है, जिसमें उन्होंने सरकार के आदेश का पालन करने की बात कही है |

भारत और चीन विवाद के बीच सोमवार को भारत सरकार ने बड़ा फैसला लिया | इस फैसले में केंद्र सरकार ने 59 चाइनीज ऐप्स पर सुरक्षा का हवाला देते हुए भारत में प्रतिबंध लगा दिया | इन सभी ऐप में सबसे ज्यादा पॉपुलर ऐप टिक टॉक है जिसके भारत में करोड़ों यूजर्स हैं. इस बैन के बाद वीडियो मेकिंग ऐप टिक टॉक इंडिया ने एक बयान जारी किया है |

ट्विटर पर एक पोस्ट के जरिए टिक टॉक इंडिया के हैड निखिल गांधी ने कहा है कि ”भारत सरकार ने 59 ऐप्स को बैन करने का फैसला लिया है | हम इस आदेश को मान रहे हैं | इसके लिए हम सरकारी एजेंसियों से मुलाकात भी करेंगे और अपनी सफाई पेश करेंगे |” उन्होंने आगे कहा कि ”टिक टॉक भारत के कानून का सम्मान करता है | टिक टॉक ने भारत के लोगों का डाटा चीनी सरकार समेत किसी भी विदेशी सरकार को नहीं भेजा है | अगर हमसे ऐसा करने को कहा भी जाता है फिर भी हम ऐसा नहीं करेंगे |”

टिक टॉक की तरफ से दावा किया गया कि टिक टॉक 14 भारतीय भाषाओं में उपलब्ध है | इस पर लाखों-करोड़ों यूजर्स हैं, जिनमें आर्टिस्ट, स्टोरी टेलर, टीचर हैं | जो अपनी रोजमर्रा की रोजी रोटी के लिए इस पर निर्भर हैं | टिक टॉक ने ये भी दावा किया कि इनमें से बहुत सारे लोग ऐसे हैं जो पहली बार इंटरनेट का यूज कर रहे हैं |

सरकार के बैन के बाद गूगल ने टिक टॉक समेत सभी बैन किए गए ऐप्स को प्ले स्टोर से हटा दिया है | बैन किए गए ऐप्स ऐपल स्टोर पर भी डाउनलोड करने के लिए उपलब्ध नहीं है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here