मध्यप्रदेश में पेट्रोल डीजल पर लगाए अतिरिक्त कर वापस हो

0
129

इंदौर। पेट्रोल डीजल की बढ़ती कीमतों को भले ही विपक्ष कम आंक रहा हो लेकिन प्रदेश के जन अधिकार संगठन ने इसे गंभीरता से लिया है। संगठन ने आज प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए कहा की महंगाई की मार से त्रस्त आम जनता  राहत पहुचाने के बजाय केंद्र और राज्य की सरकार पेट्रोल और डीजल पर कर बढ़ाकर आम जनता को निरन्तर परेशान कर रही है । प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने जीएसटी को लागू करते वक्त कहा था कि “वन नेशन, वन टैक्स” लेकिन वो ये कहते समय पेट्रोल, डीजल और गैस पर जीएसटी लगाना भूल गए इससे साफ़ जाहिर होता है की ये कर व्यापारियो को परेशान करने के लिए लगाया है और नरेंद्र मोदी जी की कथनी और करनी में भी अंतर है पेट्रोल डीजल की अंतराष्ट्रीय कीमतों में कमी को अपने नसीब से जोड़कर दिखाया था,लेकिन इसका लाभ आम जनता को नही दिया गया, अब अंतराष्ट्रीय कीमतों में वृद्धि को आम जनता पर थोपा जा रहा है.
केंद्र सरकार ने तेल कंपनियों को लाभ पहुचाने के लिए उन्हें रोज कीमत बदलने की स्वन्त्रता प्रदान कर दी और महगाई से त्रस्त आम जनता पर ओर बोझ डाल दिया गया.
मध्यप्रदेश में तो पेट्रोल डीजल पर देश मे सबसे ज्यादा टैक्स है ,सरकार ने नवम्बर 2015 में पेट्रोल पर 4 रुपये प्रति लीटर ओर डीजल पर 1.50 रुपये का अतिरिक्त भार प्रदेश की जनता पर डाला जो कि अनावश्यक है.
प्रदेश सरकार की अकर्मण्यता,अदूरदर्शिता ओर अयोग्यता के कारण प्रदेश कर्जे में डूबा जा रहा है और राजस्व बढ़ाने के लिए गलत तरीको को इस्तेमाल किया जा रहा है ,एक तरफ जहां प्रदेश सरकार अपनी साख बढ़ाने के लिए नर्मदा सेवा यात्रा और अन्य अलोकप्रिय योजनाओं में पैसो को अपव्यव कर रही है वही जनता पर आर्थिक बोझ डाल रही है.

जन अधिकार संगठन केंद्र और राज्य की इस पेट्रोल डीजल मूल्य वृद्धि का पुरजोर विरोध करता है ,और एक श्रृंखलाबद्ध विरोध पदर्शन के द्वारा प्रदेश और राज्य सरकार द्वारा की गई मूल्यवृद्धि को वापस लेने के लिए बाध्य करेगा.प्रदेश के मुख्यमंत्री पहले पेट्रोल डीजल मूल्य वृद्धि पर साइकिल चलाकर दिखावा करते थे लेकिन अब उन्हें प्रदेश की जनता की परेशानियों से कोई सरोकार नही है ऐसा प्रतीत होता है ।

हम मांग करते है कि पेट्रोल और डीजल को जीएसटी के दायरे में लाया जाए,प्रदेश सरकार पेट्रोल डीजल पर अनावश्यक थोपे गए करो को तुरंत वापस ले और प्रदेश की जनता को अनियंत्रित महंगाई से कुछ राहत प्रदान करे ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here