राजभवन के सुरक्षा जवान ने एटीएम के पूर्व कर्मचारी के साथ मिलकर चुराए 13 लाख

0
173
भोपाल.पिपलानी पेट्रोल पंप स्थित आईसीआईसीआई बैंक के एटीएम में चोरी की वारदात में अहम खुलासा हुआ है। कंपनी के एक पूर्व कर्मचारी और राजभवन की सुरक्षा में तैनात आरक्षक ने ही चार दिन पहले यह कारनामा किया। पुलिस ने करीब 13 लाख नगद बरामद कर लिए हैं। चुराए रुपए में से करीब 16 हजार रुपए आरोपियों ने खर्च कर दिए थे। आरोपी हैं- भिंड निवासी 23 वर्षीय सुरजीत सिंह पवैया और 22 वर्षीय पान सिंह गौतम।
– सुरजीत कंपनी का ही पूर्व कर्मचारी है, जबकि पान सिंह बटालियन में आरक्षक है और राजभवन की सुरक्षा में तैनात था। आरोपी को पुलिस ने पूछताछ के लिए पहले ही दिन उठ लिया था, लेकिन उन्होंने खुद को बेकसूर बताया तो पुलिस ने उसे छोड़ दिया था। डीआईजी संतोष कुमार सिंह ने बुधवार दोपहर पुलिस कंट्रोल रूम में यह खुलासा किया।
सुरजीत सिंह पवैया
– मूलत: ग्राम पोस्ट दुल्हागन, जिला अटेर, भिंड निवासी। वर्तमान में 11 नंबर साई बाबा नगर हबीबगंज में निवास। 8वीं तक पढ़ा। वर्ष 2016 में भोपाल आया। राइटर सेफगार्ड में नौकरी की थी। वेतन 8 हजार रुपए।
– रुपए निकालने के बाद 2-2 हजार के 8 लाख रुपए अपने पेंट में डाल लिए। उसने पान सिंह को भी नहीं बताया था। उसने 5 लाख में से बंटवारा किया।
पान सिंह गौतम
मूलत: ग्राम वमनपुरा जिला अटेर, भिंड से। 14वीं बटालियन ग्वालियर में रहा। सुरजीत के साथ 8वीं तक पढ़ा था। वेतन से खर्चा पूरा नहीं होने के कारण उसने सुरजीत से जल्द रुपए कमाने को कहा था।
चुकाई किराने की उधारी…
– सबसे पहले राजभवन के पास एक किराने की दुकान की उधारी चुकाई, पुलिस ने दुकान मालिक से भी रुपए बरामद कर लिए हैं।
आरक्षक ने कहा था- चलो कोई एटीएम ही लुटवा दो
– सुरजीत मई 16 से राइटर सेफगार्ड प्राइवेट लिमिटेड में कस्टोडियन था। उसने 23 जून 2017 में नौकरी छोड़ दी थी। फिर वह सिक्योरिटी कंपनी में काम करने लगा। सुरजीत ने पान सिंह को एटीएम में रुपए डालने की बात बताई थी।
– इस पर पान सिंह ने कहा था कि चलो कोई एटीएम लुटवा दो। सुरजीत ने कहा कि लूटने की क्या जरूरत है। मेरे पास एटीएम का पासवर्ड है, जिससे पैसे बाहर आ जाएंगे। इसके बाद अगस्त में उन्होंने पिपलानी पेट्रोल पंप स्थित आईसीआईसीआई बैंक एटीएम काे चुना।
– करीब 2 महीने तक वह एटीएम में रुपए डालने वालों पर नजर रखते रहे।यह पता लगाते रहे कि एक बार में कितने पैसे रहते हैं। इसके बाद उन्होंने झांकियों के दौरान वारदात को अंजाम देने की योजना बनाई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here