नर्मदा झाबुआ ग्रामीण बैंक बनी भारत की पहली मूक बधिर फ्रेंडली बैंक

0
126
इंदौर. आनंद सर्विस सोसायटी (मूक बधिर दिव्यांग संस्था) के साथ मिलकर नर्मदा झाबुआ ग्रामीण बैंक की 407 शाखाओं के स्टाफ को सांकेतिक भाषा का ओरियंटेशन एक जनवरी 2019 से 15 जनवरी 2019 तक प्रधान कार्यालय इंदौर एवं क्षेत्रीय कार्यालय उज्जैन देवास सिहोर खरगोन झाबुआ धार में किया गया I
इस ऑरिएंटेशन से 1700 बैंक कर्मियों को आनंद सर्विस सोसाइटी से ज्ञानेंद्र पुरोहित मोनिका पुरोहित धर्मेंद्र दांगी लाल सिंह गजराज सिंह (मूूूक बधिर) रविंद्र पुरोहित अनिल पटेल (मूक बधिर) रितेश पांडे (मूक बधिर) के द्वारा प्रशिक्षण दिया गया I इस प्रशिक्षण का विचार नर्मदा झाबुआ ग्रामीण बैंक के चेयरमैन श्री ए बी विजय कुमार ने मूक बधिरों को वित्तीय समावेशन में शामिल करने के लिए विचार व्यक्त किया I 15 दिन तक लगातार यह प्रशिक्षण दिया गया I
बैंक कर्मचारियों को मूक बधिरों के साथ होने वाले सामान्य संवाद एवं व्यवहार का प्रशिक्षण दिया गया इसके अलावा मूक बधिरों की सहूलियत के लिए बैंक की सभी 407 शाखा में सांकेतिक भाषा का चार्ज लगाया जा रहा है I ऐसा करने वाली ये देश की पहली बैंक है यह कहना है मूक बधिरों के लिए कार्य करने वाले ज्ञानेंद्र मोनिका पुरोहित का जो कि मूक बधिरो को समाज की मुख्यधारा में लाने का प्रयास लगातार करते रहे हैं I श्री ए बी विजय कुमार जी ने बताया कि हमारी बैंक मूक बधिरो को समाज की मुख्यधारा में लाकर वित्तीय समावेशन से इन्हें जोड़ना चाहती है I इन्हें बैंकिंग के माध्यम से जोड़ कर आत्मनिर्भर बनाने के लिए भी कार्य करेंगे I

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here