उदीयमान सूर्यदेव को अर्घ्य देने के साथ 4-दिवसीय छठ महोत्सव का हुआ समापन, देखें चित्र

0
90

इंदौर: चार-दिवसीय छठ महोत्सव का समापन आज सुबह शहर में बसे पूर्वांचल के हजारों श्रद्धालुओं द्वारा उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देने के साथ हुआ। कल शाम का अर्घ्य देने के पश्चात मध्य रात्रि से ही शहर के विभिन्न घाटों पर श्रद्धालुओं एवं छठ व्रतियों का आना शुरू हो गया। सुबह 4 बजे तक शहर के सभी घाट छठ उपासकों एवं श्रद्धालुओं से भरे नज़र आ रहे थे। रंग बिरंगी विद्दयुत से सजी ये घाटें, छठ मैया के लोकगीतों के बीच अत्यंत मनमोहक दृश्य पैदा कर रहे थे। सूर्योदय का समय जैसे जैसे निकट आ रहा था, जल कुंडों में कड़ी व्रती महिलायें एवं पुरुष एकाग्रचित होकर भगवान् भास्कर की आराधना में लीन होकर घर परिवार, समाज, प्रदेश एवं देशवासियों की सुख समृद्धि, शांति हेतु कामनाएं कर रहे थे।
सूर्योदय होते ही शहर के लगभग 80 से अधिक छठ घाटों पर बिहार एवं पूर्वांचल के हजारों लोगों ने भगवान् भास्कर के उदीयमान स्वरुप को ”आदि देव नमस्तुभ्यं प्रसीद मम भास्कर:, दिवाकर नमस्तुभ्यं प्रभाकर नमोऽस्तुते ” तथा ऊं सूर्याय नम: के मंत्रोच्चार के बीच अर्घ्य देकर घर परिवार, समाज एवं देश के सुख समृद्धि एवं शान्ति की कामना की । स्कीम नंबर 54 के अनुपम नगर स्थित छठ घाट पर भगवान् सूर्य को अर्घ्य देने के पश्चात विजय नगर छठ पूजा आयोजन समिति द्वारा ठेकुआ, लड्डू एवं केला का प्रसाद भी वितरित किया गया। इसके अलावा छठ व्रतियों के परिवार के लोगों द्वारा भी उपस्थित श्रद्धालुओं में छठ का प्रसाद वितरित किया गया।
सुबह की ठंढी बेला में, मन को झंकृत कर देने वाली छठी मैया के लोक गीतों के बीच शहर के सभी छठ घाटों, विशेषरूप से स्कीम न. 54 , 78, सुखलिया पानी टंकी, श्याम नगर, तुलसी नगर, तिरुपति पैलेस (निपानिया), , बनेश्वर कुंड बाणगंगा, सिलिकॉन सिटी, एरोड्रोम रोड, कालानी नगर, देवास नाका स्थित छठ घाटों का नज़ारा बिलकुल भक्तिमय हो गया। जहाँ छठ व्रतधारी जल कुंडों के ठंढे पानी में खड़े होकर बंद आखों से सूर्यदेव की आराधना में लीन थे, उनके परिवारजन घाट के समीप खड़े होकर भगवान् भास्कर के उदयकाल की प्रतीक्षा कर रहे थे। स्कीम न. 54, सुखलिया स्थित छठ घाट पर शहर के कई प्रशाशनिक अधिकारियों के अलावा स्थानीय विधायक श्री रमेश मेंदोला एवं पार्षद मुन्नालाल यादव ने भी सुबह सुबह पहुंच कर सूर्यदेव को अर्घ्य दिया। शहर के पूर्वी क्षेत्र में स्थित तुलसी नगर में कॉलोनी में रह रहे कई छठ उपासकों द्वारा अपने अपने घरों के समक्ष एवं घरों के छत पर कृतिम जल कुंड एवं छठी मैया की वेदी बनाकर भगवान् भास्कर को अर्घ्य दिया तथा कुछ परिवारों ने तुलसी नगर स्थित सरस्वती मंदिर प्रांगण में भी अस्थायी जल कुंड बना कर भगवान् भास्कर को अर्घ्य दिया गया।
पूर्वोत्तर सांस्कृतिक संस्थान एवं विद्यापति परिषद् द्वारा विजय नगर, सुखलिया एवं स्कीम न 78 में आयोजित आयोजित छठ महोत्सव में संस्थान के अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के अमजद खान, मूसा भाई एवं अन्य ने भी छठ महोत्सव को सुचारु रूप से संपन्न कराने में अहम् भूमिका निभाई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here